Agneepath Scheme: आर्मी में साल काम करने के बाद कहां-कहां हैं नौकरी के अवसर

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सेना भर्ती में ‘अग्निपथ भर्ती

योजना (Agneepath Scheme) का शुभारंभ किया। इसके तहत अब युवाओं को सेना में चार साल के लिए भर्ती किया जाएगा। यह भर्ती साढ़े 17 वर्ष से 21 वर्ष के बीच के युवाओं के लिए होगी। हालांकि, इस साल युवाओं को उम्र सीमा में दो साल की छूट दी गई है, यानी 2022 में होने वाली भर्ती में 23 साल तक के युवा शामिल हो सकेंगे।

नए भर्ती नियम को लेकर भी तमाम तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं। विपक्षी दल पूछ रहे हैं कि चार साल की सेवा पूरी करने के बाद युवा क्या करेंगे? क्या होगा उनके भविष्य का? इस बीच, कई राज्य सरकारों और केंद्रीय विभागों ने सेवा समाप्त होने के बाद अपनी नौकरियों में अग्निवीरों को वरीयता देने की घोषणा की है।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सेना में भर्ती प्रक्रिया में बड़े बदलाव के लिए ‘Agneepath Recruitment Scheme’ की घोषणा की। राजनाथ सिंह ने कहा कि अग्निपथ भर्ती योजना के तहत युवाओं को सेना में चार साल के लिए भर्ती किया जाएगा। साथ ही नौकरी छोड़ते समय उन्हें सर्विस फंड पैकेज मिलेगा। इस योजना के तहत सेना में भर्ती होने वाले युवाओं को अग्निवीर कहा जाएगा

तीनों सेनाओं के प्रमुखों ने हाल ही में इस योजना का प्रेजेंटेशन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दिया था। इस योजना के तहत कम समय के लिए युवाओं को सेना में भर्ती किया जा सकेगा। इस योजना का नाम अग्निपथ योजना रखा गया है। इसके तहत युवा चार साल के लिए सेना में शामिल हो सकते हैं और देश की सेवा करने में सक्षम होंगे।

युवाओं की भर्ती चार साल के लिए सेना में होगी।

• इस दौरान अग्निवीरों को मिलेगा अट्रैक्शन सैलरी

• चार साल की सेना की सेवा के बाद युवाओं को भविष्य के लिए और अवसर मिलेंगे।

• चार साल की सेवा के बाद सर्विस फंड पैकेज मिलेगा।

• इस योजना के तहत भर्ती होने वाले अधिकतर जवानों को चार साल बाद रिहा किया जाएगा. हालांकि, कुछ जवान अपनी नौकरी जारी रख पाएंगे।

• 17.5 वर्ष से 21 वर्ष तक के युवाओं को मौका मिलेगा

प्रशिक्षण 10 सप्ताह से 6 माह तक का होगा।

• 10/12वीं के विद्यार्थी आवेदन कर सकेंगे।

• 90 दिनों में होगी अग्निवीरों की पहली भर्ती

यदि किसी अग्निवीर की देश सेवा के दौरान मृत्यु हो जाती है तो उसके परिवार के सदस्यों को सेवा कोष सहित एक करोड़ रुपये से अधिक की राशि ब्याज सहित मिलेगी। इसके अलावा बची हुई नौकरी की सैलरी भी दी जाएगी.

वहीं अगर अग्निवीर विकलांग हो जाता है तो उसे 44 लाख रुपए तक की राशि दी जाएगी। इसके अलावा बची हुई नौकरी की सैलरी भी मिलेगी

देशभर में मेरिट के आधार पर भर्तियां की जाएंगी। इन भर्ती परीक्षाओं में जिन लोगों का चयन किया जाएगा उन्हें चार साल के लिए नौकरी

मिलेगी।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.