Bilaspur University Exam विश्विद्यालय की Regular और private की वार्षिक परीक्षा जल्द: विवि कुलपति

Bilaspur University Exam विश्विद्यालय की Regular और private की वार्षिक परीक्षा जल्द: विवि कुलपति

छत्तीसगढ़ की विश्वविद्यालय में जैसी शिक्षा वैसी परीक्षा के लिए Vote करे ?

रायपुर यूनिवर्सिटी में जैसी शिक्षा वैसी परीक्षा के लिए Vote करे !

सरगुजा यूनिवर्सिटी में जैसी शिक्षा वैसी परीक्षा के लिए Vote करे !

बिलासपुर यूनिवर्सिटी में जैसी शिक्षा वैसी परीक्षा के लिए Vote करे !

दोपहर 12.26 बजे एनएसयूआई के नेतृत्व में हजारों छात्र अटल यूनिवर्सिटी प्रदर्शन करने पहुंचे। पुलिस तैनात थी। छात्र 15 मिनट नारेबाजी करते रहे, फिर कुलसचिव डॉ. सुधीर शर्मा पहुंचे। साथ में परीक्षा नियंत्रक डॉ.< प्रवीण पाण्डेय, उप कुलसचिव नेहा यादव, सहायक कुलसचिव परीक्षा प्रदीप सिंह पहुंचे पर छात्रों ने ज्ञापन नहीं सौंपा। कुलपति को बुलाने की मांग करने लगे। इस पर कुलसचिव वापस चले गए।

Join in WhatsApp Group 👈

Join in Telegram Group 👈

पीछे-पीछे सभी अधिकारी चले गए। एनएसयूआई के कार्यकारी जिलाध्यक्ष रंजीत सिंह के नेतृत्व में छात्रों ने नारेबाजी और तेज कर दी तो सभी अधिकारी फिर पहुंचे। छात्रों ने उनसे पूछा कुलपति दो दिन से छुट्टी पर हैं तो चार्ज किसके < पास है। कुलसचिव ने कहा मेरे पास। छात्रों ने कहा ऑर्डर दिखाइए। नोटशीट आई तो पता चला कि चार्ज डॉ. एचएस होता के पास था। छात्रों ने पूछा इतने देर से चिल्ला रहे हैं तो आप क्यों नहीं बता रहे थे, आपको नहीं पता था कि आप चार्ज में हैं। कार्यकारी अध्यक्ष सिंह ने पूछा शासन से ऑफलाइन परीक्षा लेने का आदेश आया है। कॉलेजों का सिलेबस पूरा हो गया है, इसका रिकॉर्ड यूनिवर्सिटी के पास है कि नहीं।

प्रभारी कुलपति नहीं दे सके छात्रों के सवालों का जवाब प्रभारी कुलपति डॉ. होता से छात्रों ने पूछा एयू से संबद्ध कितने कॉलेज हैं, कितने नियमित व प्राइवेट छात्र हैं, किन कॉलेजों ने कितनी कक्षाएं ऑनलाइन व ऑफलाइन ली हैं <पर वे किसी भी सवाल का जवाब नहीं दे पाए। इस पर छात्रों ने कहा कि जब कुछ जानकारी ही नहीं तो कुलपति का चार्ज कैसे मिल गया, जबकि सीनियर डॉ. कलाधर हैं। ऐसे ही छात्रों ने 10 से अधिक प्रश्न किए पर 5 अधिकारी छात्रों को संतुष्ट नहीं कर पाए।

छात्रों ने अंत में ज्ञापन सौंपा और कहा कि पहले सिलेबस पूरा कराया जाए। इसके बाद परीक्षा की समय सारिणी जारी हो। साथ ही कॉलेजों में जो भी गड़बड़ी हो रही है, उसकी जांच यूनिवर्सिटी कराए। जांच समिति में छात्रों को भी शामिल< करे। ज्ञापन सौंपने वालों में जिला उपाध्यक्ष लोकेश <नायक, रंजेश सिंह, एजाज हैदर, अंकित सोनी, चंद्रप्रकाश साहू, नवीन कुमार, देवाशीष सिंह, सुमित शुक्ला, कुलदीप सोनी, विपिन साहू, वैभव शर्मा, रितिक नागदेव, आशीष पटेल, तुषार साहू, साहिल अली, मयंक कौशिक, आयुष चन्द्रा, राज पटेल, डेकेश चन्द्रा, विकास पटेल, बबिता ठाकुर, शालिनी सिंह, वैशाली साहू, नम्रता सोनी, पूजा आदि शामिल रहीं।

इन बिंदुओं पर जांच समिति गठित कर कार्रवाई की मांग • कॉलेजों में छात्रों की उपस्थित 75 प्रतिशत नहीं है, फिर भी बता रहे हैं। कमेटी बनाकर जांच करवाई जाए और कॉलेजों पर कार्रवाई हो। • 11 कॉलेजों ने बिना शासन की <अनुमति के कोर्स शुरू कर दिए। एयू ने प्रवेश ले लिया और अब परीक्षा लेने की तैयारी कर रही। जांच हो कि इस प्रक्रिया में किसकी किसकी गलती है। दोषियों पर कार्रवाई करें। • कॉलेजों में शिक्षक नहीं हैं। ऑनलाइन कक्षाएं भी नहीं ली गईं। किस कॉलेज ने कितनी ऑनलाइन व ऑफलाइन कक्षाएं लीं। इसकी रिपोर्ट एयू के पास क्यों नहीं है। अगर नहीं है तो एयू किस आधार पर परीक्षा लेने जा रही है।

Leave a Comment