University Exam विश्विद्यालय में ऑनलाइन परीक्षा के लिए छात्राओं ने की कुलपति से मांग!

University Exam विश्विद्यालय में ऑनलाइन परीक्षा के लिए छात्राओं ने की कुलपति से मांग!

कोरोना संक्रमण के कारण छात्रों की पढ़ाई अस्त-व्यस्त हो गई। ऑनलाइन पढ़ाई और परीक्षा का असर छात्रों के पढ़ाई की गुणवत्ता पर पड़ा है। अब सेशन भी पीछे होने का डर सता रहा है। गुरु घासीदास सेंट्रल यूनिवर्सिटी में छात्रों की पढ़ाई 6 महीने पिछड़ गई है। इसमें सत्र 2020-21 के 2723 और सत्र 2021-22 के 3365 छात्र प्रभावित हो रहे हैं।

द्वितीय वर्ष के छात्रों की परीक्षा अभी तक हो जानी थी, पर उनका नया सेशन ही 4 मार्च से शुरू हुआ है। इसी तरह सत्र 2021-22 के छात्र का पहला साल खत्म हो जाना था, पर अभी पहला सेमेस्टर चल रहा है। छात्रों ने मंगलवार को एनएसयूआई के तनमीत छावड़ा व प्रदेश महासचिव लक्की मिश्रा के नेतृत्व में प्रदर्शन किया। छात्रों कहा कि अगर इस तरह से सेशन चलता रहा तो उन्हें 6 महीने देर से डिग्री मिलेगी। इस कारण उनका भविष्य प्रभावित होगा। न कहीं एडमिशन ले पाएंगे और ना ही प्रतियोगी परीक्षा में बैठ पाएंगे।

सभी छात्र कुलपति प्रो. आलोक चक्रवाल से मिलना चाह रहे थे, पर कुलपति ने 4 छात्रों से मिलने को कहा। इसके विरोध में छात्रों ने यूनिवर्सिटी का गेट बंद कर दिया। किसी भी आने-जाने नहीं दिया।शाम 5 बजे कुलपति प्रो. चक्रवाल छात्रों से ऑनलाइन परीक्षा ली जाए। मिले। उन्होंने कहा कि वे छात्रों की परेशानी को दूर करने ही बैठे हैं। छात्रों को परेशानी नहीं होगी। जो भी छात्रहित में होगा, उचित निर्णय लिया जाएगा।

छात्रों ने कहा- छुट्टी में पढ़ाई हो, फिर ऑनलाइन परीक्षा छात्रों ने कुलपति से मांग की कि यूजी व पीजी प्रथम वर्ष के छात्रों को द्वितीय सेमेस्टर में व द्वितीय वर्ष के छात्रों को चतुर्थ सेमेस्टर में पिछले परफार्मेंस के आधार पर • जनरल प्रमोशन दिया जा सकता है। इसके अलावा छात्रों ने कहा कि • गर्मी की छुट्टी में ऑनलाइन क्लासेस लेते हुए जुलाई के शुरुआती हफ्ते में

यूजीसी के निर्देश का पालन हो रहा है मीडिया सेल प्रभारी डॉ. प्रतिभा जे. मिश्रा ने कहा कि संक्रमण के कारण सेशन विलंब हुआ है। यूजीसी के अनुसार पढ़ाई चल रही है। यूजीसी जो निर्देश देगी, उसका पालन किया जाएगा।

Join in Group 👉 Link 👈

Join in WhatsApp Group :- Click Hare

Join in Telegram Group :- Click Hare

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *